Moral Hindi Story for Class 5 Pdf Free Download / बच्चों की बेहतरीन कहानियां

Hindi Story for Class 5 Pdf

Hindi Story for Class 5  मित्रों इस पोस्ट में  Moral Stories in Hindi For Class 5 की कहानियां दी गयी है।  यह सभी Hindi Story for Class 5 With Moral की कहानियां बहुत ही शिक्षाप्रद हैं। 

 

 

 

 

गलती का एहसास हिंदी कहानी ( Hindi Story for Class 5 Student ) 

 

 

 

 

राहुल, विवेक, विनोद तीनो बहुत ही गहरे मित्र थे. तीनों की दोस्ती की चर्चा पुरे गांव के साथ-साथ दूसरों गांव में होती थी. तीनों गहरे मित्र के साथ ही निठल्ले  भी थे.

 

 

 

कुछ भी काम धंधा नहीं करते थे…तीनों की आदत एक बराबर थी…यूँ कह लो कि तीनों एक दुसरे से बढ़कर थे.इसीलिए इनकी खूब जमती थी.एक दिन तीनों दोस्त मेला देखने गए.

 

 

 

 

हिंदी शिक्षाप्रद कहानी 

 

 

 

मेले से लौटने काफी रात हो गयी…लेकिन इन्हें कोई भी फर्क नहीं था…ये तीनों अपनी ही मस्ती में चले आ रहे थे. इन्हें विश्वास था कि इनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, लेकिन शायद आज होनी को कुछ और ही मंजूर था.

 

 

 

 

“तुम तीनों रुको…इतनी रात को कहाँ जा रहे हो” एक कड़क आवाज़ गूंजी.  तीनो ठिठक गए और पीछे मुड़कर देखा तो ७ लोग  खड़े थे…कुछ ही देर में उन लोगों ने इन तीनों को घेर लिया.

 

 

 

 

 

ये लोग तीन…वो लोग ७ ….माहौल को देखते हुए विवेक  ने डरने का अभिनय करते हुए सारी  बात बता दी और कहा कि हमें छोड़ दो…जाने दो.  ऐसे कैसे जाने दूं..तुम लोगों के पास जो कुछ भी है तुरंत निकालो…उन ७ आदमियों से एक ने गरज कर कहा.   लेकिन हमारे पास तो कुछ नहीं है….आपको विश्वास ना हो तो आप तलासी ले सकते हो…..विनोद ने कहा.

 

 

 

चुप….एकदम चुप…मुझे पता है …..तुम भिखारियों के पास कुछ नहीं है….तुम्हे यह पैकेट गाँव के लास्ट में पीपल के पेड़ के निचे रखना है.,,,उन ७ में से एक आदमी ने कहा.

 

 

 

 

ले..लेकिन इनमें क्या है….विनोद हकलाते हुए कहा.  सवाल नहीं…..तुम्हे सिर्फ यह पैकेट वहाँ रखना है….और हाँ कोई चालाकी नहीं….मुझे तुम लोगों के सारे काले कारनामे पता है….उनमे से एक ने कहा.

 

 

 

 

नहीं..हम नहीं रखेंगे…..पहले बताओ इसमें क्या है…विवेक ने थोड़ी ढीठता से कहा.         ठीक है फिर…आज तुम लोग मेला गए थे न…लेकिन मेले में तुमने क्या किया उसका नमूना दिखाऊं ….. ओये दिखा तो फोटो इसे….उन ७ में से  एक ने दुसरे को कहा.

 

 

 

 

कहते ही मोबाइल से फोटो दिखाई देने लगे….कि किस तरह ये तीनों लोगों को परेशान कर रहे थे…कुछ सामन भी चुरा रहे थे …..अब तो इन तीनों के पैरों तले जमीन खिसक गयी….मरता क्या न करता…उन्होंने हां कह दिया और पैकेट्स लेकर चल दिए.

 

 

 

Hindi Story Writing for Class 5

 

 

 

 

आज ये तीनों बहुत ही बुरी तरह फंस गए थे….. इनका दिमाग चकरघिन्नी हो गया था…इनकी समझ में  कुछ नहीं आ रहा था…ये तीनों चुपचाप चल रहे थे…कि इतने में पुलिस की गाडी आती दिखी….अब तो बेचारे और भी बुरी तरह फंस गए…..कुछ ही पल में पुलिस की गाडी इनके पास आकर रुकी…..ये तीनों थर-थर कापने लगे.

 

 

 

 

कहां से आ रहे हो तुम लोग..कौन सा गांव है तुम लोग का….इतनी रात को कहा गए थे….इन पैकेट्स में क्या है…..पुलिस सिपाही की रौबदार आवाज़ में इतने सारे सवाल सुनकर तीनों की बोलती बंद हो गयी.

 

 

 

 

क..क..कुछ नहीं साहेब..बस थोड़ा सामान है…राहुल ने हकलाते हुए कहा.  दिखाओ…पैकेट्स दिखाओ कहकर सिपाही ने पैकेट्स उनके हाथ से छीन लिया….अब तो इनकी जान आफत में आ गयी….अब जैसे ही सिपाही ने पैकेट्स को तो सभी अवाक रह गए….उन पैकेट्स में मिट्टी थी.

 

 

अब सिपाही गुस्सा हो गया…..कहा तुम लोग पुलिस का मजाक उडाते हो.   रहने दो साहेब….इनके किये का दंड इन्हें मिल गया है….अब यह अवश्य ही सुधर जायेंगे….इन पैकेट्स को हम लोग ही दिये  थे….इन लोगों की रात भर घुमने की आदत छुड़ाने के लिए.

 

 

 

 

इन्हें शर्म नहीं आती ये निठल्लों जैसे घुमते रहे हैं…..इन तीनों लोग राहूल, विवेक और विनोद ने जब पीछे मुड़कर देखा तो वही ७ लोग खड़े थे…लेकिन अब सभी के चेहरे सामने थे.

 

 

 

 

उनमें से एक सरपंच और इन तीनों के पिताओं के अलावा गाँव के कुछ लोग थे….इन तीनों को अपनी गलती का एहसास हो गया….तीनों ने आगे से Hard Work करके कमाने की कसम खायी .फिर पुलिस ने भी इन्हीं हिदायत देकर छोड़ दिया…..अब ये तीनों Hard Work  करके कमाने लगे…इन्हें सबक मिल गया था.

 

 

 

 

सकारात्मक सोच ( Short Moral Stories in Hindi For Class 5 Pdf )

 

 

 

 

2Life में हमें कई तरह की परेशानियाें का सामना करना पड़ता है और आप Positive thinking पर कहानी पढ रहे है. सकारात्मक सोच से आप जीवन की तमाम परेशानियों से लड़ सकते है.

 

 

 

अगर आप हमेशा Negative thoughts के बारे में साेचेगें तो हर काम आपकाे कठिन ही लगेगा. एक कहावत है न .. …. “जेेैसी चाह वैसी राह

 

 

 

बात बहुत पुरानी है. एक संत अपने शिष्याे के साथ एक जंगल से कहीं जा रहे थे. अचानक उन्हें प्यास लगी, वो पानी की तलाश में आगे बढ़ने लगे.

 

 

 

आगे चलने पर उन्हें एक तालाब दिखाई दिया. मीठी -मीठी  फूलों की सुगंध…. धीमी गति से बहती हवा… चिड़ियाे की चहचहाहट… बहुत ही मनोरम दृश्य था.

 

 

 

इसे भी पढ़ें  Short Moral Stories in Hindi For Class 7 / भरोसा करिये यह हैंडपैंप चलता है

 

 

 

 

संत ने अपने शिष्याे से कहा कि हम थक गये हैं ,यहा बहुत ही मनोरम वातावरण है. हम कुछ देर आराम करेंगें, फिर गंतव्य काे प्रस्थान करेंगें. संत और उनके शिष्य थाेडा आराम करने के उद्देश्य से वहा बैठ कर प्रकृति का आनंद ले रहे हाेते है, कि अचानक से देखते हैं कि एक मछुआरा मछलियाँ पकड़ने आता है.

 

 

 

 

संत बडे ध्यान से उसकी क्रिया काे देखते हैं. फिर अपने शिष्याे से कहते हैं कि देखाे कैसे मछुआरे के जाल में कुछ मछलियाँ एकदम निढाल हैं…. कुछ मछलियाँ छटपटाते हुये निकलने का प्रयास कर रही हैं और कुछ सफल भी हाे रही हैं.

 

 

 

फिर संत ने शिष्याे से पूछा कि इसका जीवन में क्या मतलब है ? शिष्य एक दूसरे को देखने लगे. तब संत बाेले मैं बताता हूं…… मनुष्य भी ठीक ऐसे ही हाेते है.

 

 

 

कुछ मनुष्य होते हैं जाे साेच लेते है कि अब कुछ हाे ही नहीं सकता… सब कुछ खत्म हो गया है.. और शान्त होकर बैठ जाते हैं. दूसरे हाेते हैं जो जाेश में आकर प्रयास ताे करते हैं लेकिन फिर शान्त हाेकर बैठ जाते हैं जिससे उनका भी पतन हाे जाता है.

 

 

 

लेकिन इसके विपरीत जो तीसरे हाेते हैं वे निरंतर प्रयास करते हैं और जीवन में सफल होते हैं. वह सकारात्मक सोच के लोग हाेते हैं .तो हमें निरंतर प्रयास करना चाहिए. सकारात्मक हाेना चाहिए. सकारात्मक सोच रखनी चाहिए.

 

 

 

Moral Of This Story – हमें हमेशा Positive thinking रखनी चाहिए।  इससे हम जीवन की प्रत्येक बाधा को पार कर लेगें. 

 

 

 

 

 

बुद्धिमान सियार ( Hindi Story Telling for Class 5 )

 

 

 

 

3- एक जंगल में एक शेर रहता था…. उम्र बढ़ जाने की वजह से उसे कही आने जाने में परेशानी हाेती थी…जिससे वह शिकार नहीं कर पाता था… छाेटे छाेटे जानवर भी उसके आगे से गुज़र जाते लेकिन वह कुछ नहीं कर पाता.

 

 

वह भूख से व्याकुल हाेने लगा… तभी उसे एक उपाय सूझा… उसने पूरे जंगल में घाेषणा करवा दी कि इतने दिनाे तक वह तप कर रहा था… इसीलिए उसने किसी जानवर काे नहीं मारा… वह भी तब जब जानवर उसके सामने से गुजर गये…. लेकिन अब उसका तप पुर्ण हाे गया है… उसके पास जादुई शक्तियां आ गयी हैं .

 

 

 

साे जंगल से एक जानवर राेज उसकी गुफा में आ जाये…. अन्यथा वह सभी जानवरों काे जादुई शक्ति से मार देगा… लेकिन सिर्फ छाेटे जानवर ही आयें… बडे़ जानवरों काे ना खाने की शपथ ली हेै.

 

 

 

उसके इस फरमान से जंगल में कोलाहल मच गया… एक ताे जंगल का राजा और जादुई शक्ति से उसके और बलशाली होने की खबर से जंगल में अफरा तफरी का माहौल हाे गया.

 

बड़े जानवर ताे इस बात से खुश हाे गये कि जंगल के राजा शेर ने उन्हें ना खाने की शपथ ली है….लेकिन छाेटे जानवराे की शामत आ गयी… इस परिस्थिति काे देख छाेटे जानवर पलायन करने लगे.

 

 

 

 

इसे भी पढ़ें  Moral Stories in Hindi for Class 8 / बहुत ही सुन्दर 5 कहानियां हिंदी में

 

 

 

 

उनके पलायन की खबर सुनते ही सारे बड़े जानवरो ने तत्काल एक सभा का आयोजन किया….. आयाेजन में एकमत से पारित किया गया बड़े जानवर स्वयं छाेटे जानवरों काे पकड़ कर राजा शेर तक पहुंचायेंगे…. नहीं तो छाेटे जानवरों के पलायन के बाद राजा शेर के क्रोध का प्रकाेप हम बड़े जानवराे काे सहना पड़ सकता है….साथ ही जान से भी हाथ धाेना पड़ सकता है.

 

 

अब इस डर से बड़े जानवर स्वयं छाेटे जानवराे काे पकड़ कर शेर तक पहुंचाने लगे…. शेर की याेजना काम कर गयी… वह मजे से बिना मेहनत किये राेज जानवराे काे मार कर खाने लगा और जानवराे के छाेटे हाेने से उसे काेई परेशानी नही हाेती थी…. वह खूब माेटा ताजा हाे गया.

 

 

 

 

लेकिन कहते हैं न सबका दिन आता है. अब एक दिन एक सियार का नम्बर आया… वह बहुत ही बुद्धिमान सियार था… जब एक बड़ा जानवर उसे शेर के पास ले जा रहा था.. ताे उस बुद्धिमान सियार ने एक बहाना बनाया.

 

 

 

उसने उस जानवर से कहा कि अब ताे मेरा मरना निश्चित है… और हर मरने वाले की आखिरी ख़्वाहिश पूरी की जाती है… साे आपसे निवेदन है कि मुझे थाेड़ा अपना पेट भर लेने दिजीये. उसके बाद ताे भाेजन कभी नसीब में नही रहेगा… और महाराज शेर भी जब मुझे खायेंगे… ताे बढ़िया स्वाद मिलेगा… वह जानवर मान गया.

 

सियार आराम से भाेजन करने लगा और काफी देर बाद वापस आया… इधर देर हाे जाने की वजह से शेर भूख से व्याकुल हाे उठा था… उसे राेज ताजे खाने की आदत थी साे वह गुस्से में दहाड़ लगाने लगा.

 

 

 

 

जब बड़ा जानवर सियार के साथ वहां पहुंचा ताे शेर की दहाड़ से दूर जा छुपा…सियार काे गुफा के द्वार पर खड़ा देख शेर ने क्रोध से कहा.. दुष्ट सियार कहा रह गया था… आने में इतनी देर क्याें लगा दी… आज मैं तुझे ठीक वैसे ही तड़पा कर खाऊंगा जैसे मैं भूख से तड़पा हूं.

 

 

इसे भी पढ़ें Moral Stories in Hindi For Class 3 Pdf / बच्चों की खूबसूरत कहानी जरूर पढ़ें

 

 

 

 

तब सियार ने विनम्रता से कहा हे महाराज क्षमा करें… मैं समय से आ रहा था… भला काेई आपके आदेश की अवहेलना कर सकता है भला…. वह ताे रास्ते में पड़ने वाले कुये के पास एक नया शेर आया है.

 

 

 

उसने मुझे राेक लिया… उसने गुस्से में से पूछा कहा जा रहा है… ताे मेरे साथ वाले बड़े जानवर ने सारी बात बता दी… इसपर वह शेर बहाेत क्रोधित हाे गया.. और उसने बड़े जानवर काे वहीं मार डाला… आप देख सकते हाे कि मेरे साथ काेई बड़ा जानवर नही है… जब शेर ने बाहर झांककर देखा ताे बात सही थी.

 

 

 

सियार ने गरम लाेहे पर फिर हथाैड़ा मारा… उसने कहा महाराज कल से काेई जानवर यहा नही आयेगा… उसने मुझसे कहा कि जाकर कह दे कि कल से जानवराे काे मै खाऊंगा… महाराज आज मुझे खाकर भूक शांत कर लें कल से ताे आपके नसीब में कुछ नहीं है.

 

इसपर शेर ने क्रोध में भरकर कही कि चल बता कहा है वह शेर आज मै सर्वप्रथम उसे मारुंगा… तब मेरा भूक शांत हाेगी… शेर और सियार दाेनाे कूयें की तरफ चल दिये… उन्हें साथ जाता देख झाड़ियों में छुपे हुये बड़े जानवर काे बड़ा आश्चर्य हुआ… वह भी धीरे धीरे छुपकर उनके पीछे चल दिया.

 

 

कूयें पर पहुंच कर सियार ने कहा महाराज इसी कूये मे बैठा है वह शेर.. आप कूयें में दहाड़ लगाइये… तब वह आयेगा…. जैसे ही शेर ने कूयें में दहाड़ लगायी… उसकी परछाई ने भी दहाड़ लगायी… इसपर शेर काे गुस्सा आ गया और उसने कूयें में छलाँग लगा दी…. छपाक और खेल ख़त्म.

 

 

वह कूयें मे से बचाने की गुहार लगाता रहा और कुछ देर बाद आवाज़ बंद हाे गयी…. इधर बडे़ जानवर ने जंगल में आकर सारी कहानी बता दी… सारे वन में उत्सव मनाया जाने लगा….और सियार का खूब स्वागत सत्कार किया गया…. इस तरह बुद्धिमान सियार ने खुद के साथ कइयाें की जान बचा ली.

 

 

 

Moral Of This Story – 1- पाप का घड़ा एक ना एक दिन भरता ही है, क्योंकि शेर ने बहुत पाप कर दिया था।  2- चालाकी से किये कार्य आपको मुसीबत से बचा सकते हैं, जैसा सियार ने किया।  3- घमंड बहुत ही हानिकारक होता है।  शेर को अपने बल पर घमंड हो गया था। 

 

 

 

मित्रों यह Hindi Story for Class 5  आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Very Short Hindi Story for Class 5  की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और Short Moral Stories in Hindi For Class 5 की तरह की दूसरी कहानी के लिए नीचे की लिंक पर क्लिक करें।

Abhishek

नमस्कार पाठकगणों, मेरा नाम अभिषेक है। मैं मुंबई में रहता हूँ। मुझे हिंदी कहानियां लिखना और पढ़ना बहुत ही पसंद है। मैं कई तरह की हिंदी कहानियां लिखता हूँ। इसमें प्रेरणादायक कहानियां दी गयी है। मुझे उम्मीद है कि यह आपको जरूर पसंद आएगी। धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!