Prerak Moral Story in Hindi / छोटे प्रेरक प्रसंग / जीवन में हमेशा सीखते रहना चाहिए

Naitik Story in Hindi

Prerak Moral Story in Hindi पाठकगणो इस पोस्ट में  Prerak Prasang Story in Hindi की कहानियां दी गयी है।  इसमें Prerak Prasang Short Story in Hindi With Moral की बेहतरीन छोटे प्रेरक प्रसंग की कहानी दी गयी है। 

 

 

 

 

प्रयास हिंदी कहानी ( Prerak Moral Story in Hindi ) 

 

 

 

 

मित्रों किसी विशिष्ट कार्य हेतु किसी ना किसी को तो कदम आगे बढ़ाना ही पड़ता है और लोग जुड़ते जाते हैं और कारवां तैयार हो जाता है।  जब तक कोई आगे ही नहीं बढ़ेगा, उस समस्या के लिए आवाज नहीं उठाएगा, जूझेगा नहीं तो वह कार्य कैसे पूरा होगा। 

 

 

 

 

मित्रों आप भी ऐसे कार्यों के लिए जो वाजिब हो उसके लिए आवाज जरूर उठायें।  आज की यह कहानी उसी पर आधारित है। रमेश गंगापुर गांव में अपने माता – पिता के साथ रहकर कृषि के कार्य में हाथ बटाता था और साथ ही साथ अपने पढाई पर भी ध्यान रखता था।

 

 

 

रमेश का गांव विकास के मामले में सरकारी कर्मचारियों की लापरवाही का जीता – जागता प्रमाण था, जबकि उसके बगल वाले गांवो की तस्वीर ही अलग थी।

 

 

 

प्रेरक प्रसंग इन हिंदी विथ मोरल

 

 

 

 

बगल वाले गांव रमेश के गाँव की खिल्ली  उड़ाया करते थे। जिसका कारण था कि रमेश के गांव गंगापुर में बिजली के खम्भे तो लगे थे, लेकिन उस पर लगे हुए बल्ब सालों से ख़राब थे । हालांकि सभी के घरों में बिजली थी।

 

 

 

 

इसे लेकर प्रायः रमेश  तनाव में रहता था क्योंकि इससे गाँव में चोरी और अन्य आपराधिक घटनाएं बढ़ गयी थी। इस कारण उसकी पढाई बाधित  होती थी।

 

 

 

 

एक दिन उसे एक Idea सूझी। वह एक बड़ा सा बांस लिया और उसने अपने घर से तार जोड़कर उसमें  Bulb लगा दिया।

 

 

 

इसपर उसके दोस्त ने कहा, ” एक Bulb लगाने से क्या होगा ? पुरे गांव में अंधेरा तो बना ही रहेगा ? ”

 

 

 

 

जब  शाम के समय रमेश के दरवाजे के सामने का बल्ब  जला तो उसका उजाला काफी दूर तक फैला,  जिससे उधर से आने जाने वालों की समस्या में थोड़ी सी कमी आई।

 

 

 

 

इसे भी पढ़ें Motivational Story in Hindi 

 

 

 

 

रमेश के इस प्रयास का अन्य लोगों ने भी अनुकरण  करना शुरू किया, जिससे पूरा गांव ही उजाले से सराबोर हो गया। रमेश के इस छोटे से प्रयास का अनुकरण करके गांव वालों को अपार हर्ष हुआ।

 

 

 

 

अगले वर्ष गांव के प्रधान का चुनाव होना तय हुआ था। सभी गांव वाले रमेश के पक्ष में खड़े हुए और रमेश को  प्रधान चुन लिया। यह देखकर सरकारी कर्मचारियों के रातों की नींद उड़ गई, क्योंकि रमेश एक सच्चा प्रधान था, जो अपने काम को सही तरीके से करता था।

 

 

 

 

अब रमेश का वही गंगापुर गांव अपने अगल – बगल के गावो से मिलों नहीं कोसों आगे था और रमेश प्रधान के प्रयास से प्रत्येक नागरिक अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक थे। जिस कारण गंगापुर गांव तेज गति से विकास के पथ पर अग्रसर था और इससे रमेश को विकास पुरुष की उपाधि मिल गई थी।

 

 

 

Moral Of The Story – किसी शुभ कार्य के लिए किसी ना किसी को आगे आना ही पड़ता और जो आगे आता उसी का नाम होता है, इसलिए ऐसा कार्य जिसमें समाज का लाभ हो कुरीतियां मिटें, उसमें आगे अवश्य ही आना चाहिए।  

 

 

 

 

गुरु कौन? Shiksha Prerak Story in Hindi

 

 

 

 

२- मनुष्य को हमेशा सीखना चाहिए।  हर Situation में सीखना चाहिए।  यह कभी भी नहीं देखना चाहिए कि हम किससे सीख ले रहे हैं।  सीख देने वाला कभी छोटा या बड़ा नहीं होता है।  आज की यह हिंदी प्रेरक कहानी इसी पर आधारित है।

 

 

 

 

आप के गुरु कौन हैं और आपने किस गुरु से शिक्षा ली है ? ” एक शिष्य ने जिज्ञासा बस  स्वामी अंजनी दास से पूछा। ” तुमने उचित प्रश्न किया ,पुत्र। वैसे तो हमारे हजारों गुरु हैं, लेकिन पूर्ण रूप से मैंने तीन गुरुओं  से शिक्षा प्राप्त की है, जो मैं तुम्हे अवश्य ही बताऊंगा। हमारा पहला गुरु समाज को हानि पहुंचाने वाला एक चोर था। “

 

 

 

 

चोर ? शब्द से सभी शिष्य चौक गए।

 

 

 

गुरु ने कहा, “आप लोग चौकिए मत।  उस चोर की भावना देखिए। हर मनुष्य में कोई न कोई भावना छुपी होती है।  वह अच्छी भी हो सकती है, और बुरी भी सकती है। “

 

 

 

मैं अपने एक शिष्य के आमंत्रण पर उसके गांव  जगदीशपुर  के लिए जा रहा था।यात्रा दूरगामी होने के कारण हमें बिलम्ब हो गया और रात हो गई।

 

 

 

 

उस समय हमनें देखा कि पास के घर से कुछ आवाज आ रही थी। मैंने सोचा रात काफी हो चुकी है, शायद उस घर में हमें आश्रय मिल जाएगा, फिर सुबह अपने गंतव्य  पर निकल पडूंगा।

 

 

 

 

यही सोच कर मैं उस घर नजदीक गया तो वहां का दृश्य देखकर अवाक् रह गया। उस घर में एक चोर सेंधमारी की कोशिश कर रहा था।यह देखकर मैंने अपने आप को नियंत्रित करते हुए उस चोर से पूछा, ” भाई मैं यहां के रास्ते से अनभिज्ञ पथिक हूं।  मुझे एक रात के लिए आश्रय चाहिए।  क्या मुझे यहाँ कहीं आश्रय मिल सकता है ? “

 

 

 

 

चोर ने कहा, ”  इतनी रात गए यहां आपको किसी के पास आश्रय नहीं मिल सकेगा। हां, अगर आप चाहो तो हमारे साथ रहने के लिए चल सकते हो। लेकिन ,सोच लो मैं एक चोर हूं। अगर आपको कोई आपत्ति न हो तो मेरे साथ जब तक चाहो रह सकते हो।  ”

 

 

 

मैं उसके साथ रहने के लिए उसके घर चला गया। मैं उसके साथ बीस दिन तक रहा। वह हर रोज रात को हमसे कहता कि मैं अपने काम पर जा रहा हूं, आप यहाँ आराम से रहकर मेरे लिए प्रार्थना करो।

 

 

 

जब वह अपने काम से वापस आता तो मैं उससे पूछा करता कि कुछ सफलता प्राप्त हुई कि नहीं, तो वह कहता आज तो कोई सफलता नहीं मिली। अगर ईश्वर ने चाहा तो, कल हमें अवश्य ही सफलता मिलेगी। वह कभी निराश उदास रहता ही नहीं था, हमेशा खुश रहता था।

 

 

 

 

मुझे ध्यान और साधना करते हुए कई वर्ष बीत गए। परिणाम शून्य ही था, मैं  हताश और निराश होकर सब कुछ छोड़ने की ठान लेता, लेकिन मुझे उस चोर के कहे हुए शब्द ” ईश्वर ने चाहा तो अवश्य ही कुछ मिलेगा ” याद आ जाते। उसके बाद फिर से अपने मार्ग पर अग्रसर हो जाता।

 

 

 

 

 

स्वामी ने कहा मेरा दूसरा गुरु  एक कुत्ता था। यह सुनकर सभी शिष्य एक साथ बोल उठे , कुत्ता ?

 

 

 

इसपर  स्वामी ने कहा, हां कुत्ता। इसपर  शिष्यों ने पूछा कि कुत्ते से आपने कैसी शिक्षा ली, स्वामी जी?

 

 

 

स्वामी जी ने कहा, वही तो बताने का प्रयास कर रहा हूं, सावधान होकर सुनो। ज्येष्ठ मास की तपती दुपहरी में मैं प्यास से व्याकुल नदी के तट पर जा रहा था।

 

 

 

उसी समय हमारे पास से एक कुत्ता गर्मी से बेहाल नदी की तरफ बहुत तेजी से दौड़ता हुआ जा रहा था। वह हमसे पहले नदी पर पहुंच गया और देखा कि प्यास बुझाने के लिए नदी में पर्याप्त जल था और जल पीने के लिए जैसे ही नदी में अपनी गर्दन झुकाई, लेकिन वह तुरंत ही भौंकते हुए पीछे चला गया।

 

 

 

 

कारण यह था कि, उसे जल में अपना प्रतिरूप परिलक्षित हुआ। वह अपने प्रतिरूप को देखकर उसे अपना शत्रु  समझकर पीछे हटकर चौकन्ना हो गया।

 

 

 

 

लेकिन प्यास लगने के कारण वह फिर से जल के समीप गया, लेकिन फिर भौंकता हुआ पीछे चला गया। यही क्रम तीन – चार बार चला। अंततः प्यास से व्याकुल  कुत्ता नदी के जल में कूद पड़ा और उसका शत्रु रूपी प्रतिरूप समाप्त हो चुका था।

 

 

 

 

थोड़ी देर के  उपरांत  वह कुत्ता तृप्त  होकर बाहर आ गया और उसके चेहरे पर पूर्ण रूपेण  संतुष्टि  के भाव को देखकर मुझे यह सीख मिली कि जो समस्याओ का निडर होकर सामना करता है, विजय श्री उसी का वरण करती है।

 

 

 

 

 

स्वामी जी कहा – मेरा तीसरा गुरु एक छोटा  बालक  है। शिष्यों ने पूछा, वो कैसे स्वामी जी ? स्वामी ने कहा, मैं आप लोगो की जिज्ञासा का आदर सम्मान करता हूं और उसे शांत करने का प्रयास करूंगा।

 

 

 

मैं एक गांव के पास से जा रहा था।  संध्या  हो चुकी थी। मुझे एक बालक हाथ में प्रज्वलित दीप लिए आता दिखा, शायद वह दीप किसी मंदिर में अपने ईष्ट  देव की आराधना के लिए जा रहा था। मैं उसके समीप पहुंच कर उस बालक से  सस्नेह प्रश्न  किया। पुत्र, क्या यह दीप आपने ही प्रज्वलित  किया है या किसी और ने ?

 

 

 

 

उस बालक ने दृढ़ता पूर्वक  उत्तर दिया, ” यह दीप हमने ही प्रज्वलित किया है आपको शंका नहीं होनी चाहिए। ” तभी हवा के हल्के कम्पन से एक क्षण के लिए वह दीप बुझ गया और पुनः दूसरे क्षण प्रज्वलित हो उठा। इस दृश्य को देखकर मैंने उस बालक से प्रश्न किया, ”  क्या आप बता सकते हो  कि यह दीप ज्योति एक क्षण के लिए कहां गई थी और पुनः दूसरे क्षण कहां से वापस आ गई ? “

 

 

 

 

 

उस बालक ने हँसते हुए उस दीप को बुझा दिया और पुनः हमसे ही प्रश्न कर बैठा, ” श्रीमान अब आप ही बताइए कि वह ज्योति कहाँ गयी है ? क्योंकि उसे जाते हुए आपने भी तो देखा है। ”

 

 

 

मुझे कुछ समझ में नहीं आया कि  मैं उस बालक को क्या उत्तर दूं। मैं अवाक सा खड़ा रहा। तब तक वह बालक अपने पथ पर अग्रसर हो चुका था। मुझे अपने  ज्ञान का भंडार अभी भी रिक्त लग रहा था जिसे मैं अहंकार बस पूर्ण मान रहा था।

 

 

 

 

स्वामी जी ने कहा, ” शिष्यों – इस संसार में कोई भी पूर्ण नहीं हो सकता।  उसमें रिक्तता अवश्य ही रहती है। अतः प्रत्येक मनुष्य को हर पल – हर क्षण सीखने के लिए प्रयत्न शील होना चाहिए। जो हमेशा सीखने की चेष्ठा करता है,  वही सफल होता है।

 

 

 

Moral Of The Story – जो व्यक्ति निरंतर और हर Situation में कुछ ना कुछ सीखता है और उसे अपने जीवन में उतारता है।  वही Success के मार्ग पर आगे बढ़ता है। 

 

 

 

 

 

चंचला प्रेरक हिंदी कहानी 

 

 

 

 

3- Prerak Moral Story in Hindi Written  बाजार में भीड़ – भाड़ वाले स्थान पर हल-चल होती देखकर चंचला वहां पहुंची तो पता चला कि एक आदमी सड़क पर गिरा था।  पूछने पर पता चला कि उसका रुपए से भरा ‘ बटुआ ‘ किसी उचक्के ने चुरा लिया।

 

 

 

 

जिससे उस आदमी को दिल का दौरा आ गया और वह वहीँ गिर गया। ” आप लोग कुछ सहायता तो कर नहीं रहे, सिर्फ घेरा बनाकर खड़े रहने से कुछ नहीं होगा।  ” चंचला ने कहा।

 

 

 

 

 

” तो आप ही कुछ क्यूं नहीं करती।  ” एक अधेड़ सज्जन बोल उठे। ” हां मैं ही करुंगी।  आप लोग बस तमाशा देखो। ” चंचला ने कहा।

 

 

 

 

चंचला के प्रयास से वह आदमी उठकर बैठा  और फिर चंचला ने उसके द्वारा बताए हुए दिशा में दौड़ लगा दी। करीब पांच मिनट के बाद एक ‘ हट्टे – कट्टे ‘ आदमी के साथ लौटी  तथा पहले वाले आदमी के करीब ” पांच हजार ” रुपये  भी दिलवा दिए।

 

 

 

 

 

” आपने  ऐसा क्यूं किया भाई साहब। हमें इस समय रुपयों की बहुत आवश्यकता  थी।  ” पहले वाले आदमी ने कहा।

 

 

 

” मुझे क्षमा करें महाशय।  मैं एक निहायत ही गरीब आदमी हूँ और मुझे भी पैसों की आवश्यकता थी, इसलिए मैंने ऐसा किया।  मुझे क्षमा करें।  ” चोर ने कहा।

 

 

 

” ठीक है। आपको कितने पैसे चाहिए ? ” चंचला ने कहा।

 

 

 

इसपर चोर ने कहा, ” मुझे ५००० रुपये की आवश्यकता है।  मैं बहुत ही मुसीबत में हूँ। ”

 

 

 

” आप लोग अपनी आँखे बंद करें। ” चंचला ने कहा।

 

 

 

उसके बाद चंचला ने १००००  रुपये चोर को देते हुए कहा, ” तुम वादा करो कि तुम कभी चोरी नहीं करोगे।  ५००० रुपये तुम अपनी जरूरत के लिए खर्च करो और बाकी ५००० में कुछ बिजनेस करो। ”

 

 

 

” तुम्हारे पास इतने पैसे ? ” चोर ने कहा।

 

 

 

” आप आम खाओ, गुठली मत गिनो, लेकिन एक बात याद रखो अब कभी चोरी मत करना।  ” चंचला ने थोड़ा गुस्से से कहा।

 

 

 

 

भुवनेश्वरी कॉलेज का वार्षिकोत्सव नजदीक आ गया था। प्रिंसिपल से लेकर क्लर्क तक सभी उत्साह से अपने -अपने काम को पूर्ण करने में लगे थे और कॉलेज के लड़के और लड़कियों के समूह अपने – अपने नेतृत्वकर्ताओं का आदेश मानते हुए स्कूल प्रबंधक का पूर्ण रूपेण सहयोग कर रहे थे।

 

 

 

 

अचानक से ईश्वरीय व्यवधान आ खड़ा हुआ,  जिसके फल स्वरूप बारिश के साथ तेज हवाएं चलने लगी। आज  ईश्वरीय व्यवधान का पांचवां दिन था और सातवें दिन ” वार्षिकोत्सव ” होना था।

 

 

 

 

 

प्रिंसिपल कनकलता गर्ग जो कि एक बहुत ही ” बिदुषी ” महिला थी। उस व्यवधान के समय भी अपने सहयोगियों के साथ एक बड़े से कक्ष में छात्र समूह के नेतृत्व के साथ बिचार – विमर्स में लीन थी। सामने यक्ष प्रश्न था  कि बरसात बंद होने पर इतनी जल्दी से सब तैयारी कैसे होगी।

 

 

 

 

क्लर्क रामाधीन चौधरी के माथे पर परेशानी के भाव  परिलक्षित होने लगे थे। तभी एक आदित्य वर्ण का लड़का बोला, ” श्रीमान  जी अगर आपकी आज्ञा हो तो मैं एक सुझाव  दे सकता हूं।  ”

 

 

 

 

” अवश्य विवेक तुम सुझाव दे सकते हो, पसंद आने पर उस पर अमल भी किया जाएगा। ” कनकलता ने कहा।

 

 

 

 

” श्रीमान यह  उत्सव  बड़े पैमाने पर होने वाला है। चूँकि प्रकृति – प्रदत्त व्यवधान उतपन्न हुआ है, इसलिए  हम इसे छोटा और भव्य कर सकते है।” विवेक ने कहा।

 

 

 

 

तभी बीच में रामाधीन चौधरी ने कहा, ” बात तो कुछ हद तक तो ठीक है, लेकिन यक्ष प्रश्न यह है कि पहले बारिश तो बंद हो। मौसम विभाग के अनुसार अभी २४ घंटे बहुत तेज बारिश होगी। ”

 

 

 

 

” बरसात  तो अभी दो घंटे के अंदर ही बंद होगी।  ” चंचला ने कहा।

 

 

 

” तुम्हें क्या मौसम विभाग की तरफ से सूचना मिली है ? ”  चौधरी थोड़ा नाराज होकर बोले।

 

 

 

” हमें इस कन्या की बातों को परखना  चाहिए। चौधरी साहब ” कनकलता गर्ग ने कहा।

 

 

 

 

उन्होनें चंचला के बारे में काफी सुन रखा था और वह भी ‘ चंचला ‘ की योग्यता को परखना चाहती थी और आश्चर्यजनक २ घंटे बाद बारिश अचानक से रुक गयी। सभी लोग बहुत ही आश्चर्यचकित थे।

 

 

 

 

 

” हमारा तुम्हे आहत करने की  इच्छा कदापि नहीं थी चंचला। सारी व्यवस्था हमें ही करनी है, इसलिए हमें थोड़ा अपने ऊपर ‘ बोझ ‘ जैसा अनुभव हो रहा था। ” चौधरी साहब थोड़ा  झेंपते हुए बोले।

 

 

 

” इस बोझ को आप विवेक, घनश्याम और चंचला को थोड़ा – थोड़ा बांट दीजिए। आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा। ” कनकलता ने कहा।

 

 

 

 

”  थोड़ा ही क्यों  श्रीमान जी,  हम लोग पूरा बोझ उठाने के लिए तैयार है।  चौधरी सर हमारा मार्गदर्शन करें।  ”  विवेक और घनश्याम एक साथ कह उठे।

 

 

 

” मैं भी इसमें सहयोग करूँगी।  ” चंचला ने कहा।

 

 

 

इसपर कनकलता ने कहा, ” हाँ क्यों नहीं।  पुरे संसार में आप लोग देख लीजिए नारी शक्ति दिख जाएगी। कदाचित नारी शक्ति घर से लेकर देश – देशांतर तक व्यवस्था के मामले में पूर्ण रूपेण  सक्षम  है। ”

 

 

 

चंचला को ग्रुप लीडर बनाया गया। अगले दिन पुरे स्कूल में  चंचला ने सबको सबका काम समझा दिया। दूसरे दिन उत्सव था। ‘ भुवनेश्वरी ‘ कॉलेज के ” वार्षिकोत्सव ” में प्रदेश के बड़े – बड़े अधिकारीयों के साथ अन्य कॉलेज के प्राचार्य शिक्षक समूह के साथ – साथ मुख्यमंत्री को भी आमंत्रित किया गया था। सभी लोग पधार चुके थे।  मुख्यमंत्री का आना शेष था, क्योंकि दीप प्रज्वलित  उन्ही के  कर कमलों द्वारा प्रस्तवित  होना था।

 

 

 

 

समय खिसकता जा रहा था। कनकलता के माथे पर चिंता की लकीरें  साफ दिखाई दे रही थी। उन्होंने चंचला को सारी बातें बताई। उचित है, मैं आधे घंटे में आती हूँ।

 

 

 

 

कुछ  दूरी पर मुख्यमंत्री अपने सहयोगियों के साथ उस क्षेत्र के नागरिको द्वारा रोक लिए गए थे। पुलिस वालों का भी ” जन सैलाब ” के आगे बुरा हाल था।

 

 

 

दरअसल में वहा चोरी की घटनाएं बढती जा रही थी और इसी बात का वहाँ की जनता विरोध कर रही थी और उन्हें जैसे ही यह बात पता चली कि क्षेत्र में मुख्यमंत्री जी आने वाले है तो उन्होंने विरोध तेज कर दिया।

 

 

 

किसी तरह से पुलिस ने रास्ता खाली करवाया और जनता को आश्वासन दिया कि अब ऐसी घटनाएं नहीं होंगी। ” आप जल्दी चलिए श्रीमान । भुवनेश्वरी कॉलेज में  व्यग्रता के साथ लोग आपकी आगवानी  के लिए आतुर हो रहे है। मैं वही से आ रही हूँ।  ” चंचला ने कहा।

 

 

 

” चालक ‘ जल्दी करिए – आप भी हमारे साथ आइए। ”   मुख्यमंत्री ने चंचला से कहा।  उसके बाद सभी जल्द ही कालेज पहुँच गए।

 

 

 

‘ दीप प्रज्वलित ‘ करने के उपरांत मुख्यमंत्री की नजरें चंचला को ढूंढ रही थी, क्योकि चंचला की बहादुरी की कहानियां उनके तक भी पहुँच चुकी थी।कुछ देर में चंचला स्टेज पर आयी और मुख्यमंत्री को धन्यवाद कहा।

 

 

 

 

इसपर मुख्यमंत्री जी ने कहा, ”  मुझे यह कहते हुए अपार हर्ष और गौरव की अनुभूति हो रही है कि इस कॉलेज का संचालन नारी शक्ति के मजबूत हाथों में है और युवा शक्ति भी जोश से परिपूर्ण है। मैं ‘ भुवनेश्वरी ‘ कॉलेज की उन्नति के लिए और उज्वल भविष्य के लिए शुभ कामनाएं देता हूँ और साथ ही चंचला को भी शुभकामना देता हूँ कि आगे पढ़ – लिख कर राष्ट्र की उन्नति में सहभागी बने। ”

 

 

 

 

मुख्यमंत्री के मुख से सम्मान में कहे गए वाक्यों को सुनकर पूरा कॉलेज जैसे प्रफुल्लता अनुभव कर रहा था।

 

 

 

 

फिजूल खर्च ( Prerak Prasang in Hindi Pdf ) 

 

 

 

 

4- यह बहुत ही Prerak Moral Story in Hindi है।  आप इसे जरूर पढ़ें। जगन्नाथ पुर गांव के विद्यालय में अन्य छात्रों के साथ – साथ मंगल और प्रभात नाम के दो भाई भी शिक्षा ग्रहण कर रहे थे और दोनों ही कुशाग्र बुद्धि के थे। कारण यह था कि दोनों भाइयों का आपस में स्वस्थ प्रतियोगिता होती थी। वह दोनों भाई जगन्नाथ पुर विद्यालय के गौरव थे।

 

 

 

 

 

दोनों का विचार अलग होते हुए भी उन दोनों में कभी टकराव नहीं होता था, लेकिन कुछ छात्रों को यह अच्छा नहीं लगता था और वह हमेशा इसी प्रयास में रहते थे कि दोनों में कुछ टकराव देखने को मिले।

 

 

 

 

 

सेठ प्रदीप चंद जगन्नाथ पुर के बहुत बड़े जौहरी थे। उनका जगन्नाथ पुर में बहुत नाम था। वह बहुत ही नेक दिल के आदमी थे। वह हमेशा हर जरूरत मंद लोगों की Help के लिए हमेशा तैयार रहते थे। उनका एक लड़का भी था जिसका नाम गिरीश  था। वह अपने पिता के सर्वथा विपरीत घमंडी और आलसी था।

 

 

 

 

 

गिरीश को अपने पिता की दौलत पर बहुत Ego था और इसी घमंड के कारण वह मंगल और प्रभात को प्रायः अपमानित करने का प्रयास करता, जिसमे वह हमेशा Failed हो जाता था, क्योंकि मंगल और प्रभात उसे अपने Intelligence skills से पराजित कर देते थे।

 

 

 

 

 

एक दिन गिरीश अपनी कार लेकर विद्यालय में आया। गिरीश को कार से आया देख कर सभी छात्र उसकी कार के चारो तरफ खड़े हो गए। गिरीश अपनी कार के स्वागत में काव्यपाठ कर रहा था।

 

 

 

 

इसे भी पढ़ें Moral Stories For Children’s in Hindi Pdf / ऋषिकुमार नचिकेता की कहानी

 

 

 

 

 

लेकिन मंगल और प्रभात दूर ही खड़े थे। उन दोनों को दूर खड़ा देख गिरीश ने मंगल और प्रभात से कहा, ”  आप दोनों भी आइए और मेरे Car की खूबियां देखिए। ”

 

 

 

 

 

” आपकी Car तो बहुत ही अच्छी है परन्तु , जहां किसी के पास चलने के लिए सायकल न हो वहां पर कार लाना ठीक नहीं। ” मंगल ने कहा।  इस पर गिरीश ने थोड़ा गर्व से उन दोनों से कहा, ”  जिसके पास जो वस्तु रहेगी, वह उसी वस्तु को सबको दिखा सकता है न। ”

 

 

 

 

जगन्नाथ पुर गांव  में नदी के पास मेला लगा हुआ था। छात्रों को मेला देखने के लिए विद्यालय की तरफ से छुट्टी मिली हुई थी। मंगल और प्रभात के साथ अन्य छात्र भी अपनी सायकल से मेला देखने के लिए पहुंचे। अचानक मंगल की नजर उस पगडण्डी पर गई तो उसने प्रभात से कहा, “ देखो वह कौन आ रहा है ? “

 

 

 

 

वह गिरीश था और दो चार उसके पैसों पर चलने वाले लड़के।  नजदीक पहुँचने के बाद मंगल ने उन लोगों से कहा, ” गिरीश भाई आज आप पैदल ही इन लोगो को कष्ट देते हुए मेला देखने आ रहे है। क्या आपके पास सायकल भी नहीं है ? ”

 

 

 

इसपर गिरीश ने कहा, ” क्यों लज्जित कर रहे हो, उस दिन आपका कहना सही था। मै इस बात को समझ नहीं पाया, मैं आपका क्षमा प्रार्थी हूं। बेमतलब का खर्च और दिखावा कभी भी नहीं करना चाहिए।  मैंने अपने पिता के पैसों का नाजायज इस्तेमाल किया।  मैं इसके लिए शर्मिन्दा हूँ।  आपने मेरी आँखे खोल दी। “

 

 

 

Prerak Story in Hindi Moral – पैसे का कभी भी गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 

 

 

 

 

सत्य की जीत ( Prerak Prasang in Hindi For Students ) 

 

 

 

 

5-बाबा के स्थान वाले टीले पर जंगली पशु और पक्षियों की भरमार थी और सभी पशु पक्षी महादेव बाबा के आशीर्वाद से सुरक्षित थे, और वह किसी को कोई हानि नहीं पहुंचाते थे। महादेव बाबा के नदी का जल अत्यंत ही निर्मल था।  कमल के फूल और Fishes उस नदी के जल में चार चांद लगा रहे थे।

 

 

 

 

 

पूर्णमासी और अमावस्या  के दिन वहां बहुत बड़ा मेला लगता था और महादेव बाबा के दर्शन के लिए जो जिस भावना से उनकी शरण में जाता था। उसके ऊपर बाबा की वैसी ही कृपा होती थी। उस रास्ते से जाते हुए या अन्य किसी जगह पर संकट आता तो बाबा का स्मरण करते ही वह संकट से मुक्त हो जाता था। ऐसा कई लोगों का अनुभव था।

 

 

 

 

एक बार सोहन पुर गांव का एक आदमी बाबा के स्थान से गुजर रहा था। वह घमंड के कारण बाबा को  शीश नहीं झुकाया,फलस्वरूप वह पांच घंटे तक मूर्छित पड़ा था। खोज बिन के उपरांत ज्ञात हुआ कि उस आदमी ने उदंडता वस बाबा को शीश नहीं झुकाया था, इसलिए महादेव बाबा ने उसे चेतावनी स्वरूप मूर्छित कर दिया था, अन्यथा उसकी जान भी जा सकती थी।

 

 

 

 

 

 

गिरधरपुर गांव की यह घटना तो हैरत अंगेज करने वाली थी। कलावती का खेत  हर साल की तरह इस बार भी लहलहाती फसलों से तैयार था। हर साल कलावती की फसल कोई अजनबी काट ले जाता था।  कलावती गरीब थी।  उसका कोई नहीं था । बस अपने खेत का ही उसे सहारा था, जिससे उसकी जीविका एक वर्ष के लिए सुरक्षित हो जाती थी।

 

 

 

 

उस घटना की पुरावृत्ति हो उसके पहले ही कलावती महादेव बाबा के दरबार में अपनी अर्जी पहुंचा दी थी। जिसका फैसला निश्चित समय पर होना शेष थाऔर वह समय आ ही गया।

 

 

 

 

 

गंगू अपनी उदंडता के लिए गिरधरपुर, सोहनपुर, अंबिकापुर और सिवार नाम के गावो में प्रशिद्ध था और वही कलावती के खेत से फसल काट  रहा था। फसल काटने के उपरांत फसल के गट्ठर को ले जाने की बारी आई तो उसने देखा की उसका उसका गठ्ठर उठाने वाला कोई नहीं था। तभी अचानक उसकी निगाह एक सफ़ेद वस्त्र धारी बाबा के ऊपर पड़ी।

 

 

 

 

गंगू ने उस आदमी को अपनी सहायता के लिए उसे बुलाया और कहा कि जल्दी जल्दी हमारे गट्ठर को उठवा दो।  बाबा ने वैसा ही किया लेकिन लेकिन एक गट्ठर रह गया। वह जल्दी से जल्दी गठ्ठर अपने घर पहुंचाना चाहता था, जिससे कोई उसे देख ना ले। लेकिन महादेव बाबा अपने शरण में आए हुए प्राणियों का अवश्य ही कल्याण करते है और दोषियों को दंड भी देते है।

 

 

 

 

 

एक गठ्ठर  बाकी होने के कारण गंगू थोड़ा गुस्से से बोला जल्दी से मेरा गट्ठर उठाओ। उसकी बात सुनकर बाबा ने कहा, ”  तुम देखते नहीं हो कि मैं कितना कमजोर  आदमी हूं और तम्हारा गट्ठर उठाते उठाते मैं स्वतः ही थक गया हूं। अतः यह गठ्ठर हमसे नहीं उठेगा। ”

 

 

 

यह कहकर बाबा जाने लगे तो गंगू ने उन्हें अपशब्द कह दिया। अपशब्द सुनते ही  बाबा ने क्रोध में आकर उसे वही बेहोश कर दिया और वहां से चले गए। सुबह होने पर सब लोगो को उस घटना का पता लगा और उसके बाद से बाबा के ऊपर का विश्वास और भी दृढ हो गया।

 

 

 

 

 

ऐसी ही घटना अंबिकापुर गांव की है। जहां खेलावन नाम का एक बैद्य रहता था। बैद्य जी की दवा से अक्सर सभी लोगो का कल्याण होता था। उनकी लड़की की शादी थी। पूरी तयारी हो चुकी थी कि अचानक वर पक्ष से संदेश आया कि हम आपके यहां शादी नहीं करेंगे। बैद्य जी के पूछने उन लोगो ने कारण नहीं बताया अब तो बैद्य जी को बाबा का ही सहारा था।

 

 

 

 

 

 

बाबा के दरबार में बैद्य जी  ने हाजिरी लगाई और अर्जी देकर चले आए। अचानक तीसरे दिन ही वर पक्ष से क्षमा याचना के साथ पुनः शादी का प्रस्ताव आया, और महादेव बाबा की कृपा से बैद्य जी का कार्य निर्वघ्न सम्पन्न हो गया।

 

 

 

 

Prerak Story in Hindi Moral – इस कहानी से यही सीख मिलती है, अगर आप सत्य पर है तो भगवान किसी ना किसी रूप में आपकी सहायता अवश्य ही करते हैं। 

 

 

 

 

 

मित्रों यह Prerak Moral Story in Hindi आपको कैसी लगी जरूर बताएं और  Prerak Moral Story in Hindi Pdf  की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और Prerak Short Moral Story in Hindi  की तरह की दूसरी कहानियां नीचे की लिंक पर पढ़ें।

 

 

 

1- New Moral Stories in Hindi Written / बांके बिहारी के परम भक्त की कहानी हिंदी में

 

2-Dharmik Prasang in Hindi

 

3-Short Story on Environment with Moral in Hindi

 

4-  हिंदी में Essay यहाँ पढ़ें।  

 

 

 

 

 

 

Abhishek

नमस्कार पाठकगणों, मेरा नाम अभिषेक है। मैं मुंबई में रहता हूँ। मुझे हिंदी कहानियां लिखना और पढ़ना बहुत ही पसंद है। मैं कई तरह की हिंदी कहानियां लिखता हूँ। इसमें प्रेरणादायक कहानियां दी गयी है। मुझे उम्मीद है कि यह आपको जरूर पसंद आएगी। धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!